May 28, 2022

1 thought on “अवसरवाद के भेंट चढ़ चुकी है मानवीय संवेदनाएं,

  1. बिल्कुल सही बात है, इस महामारी ने इन्सान के असली चेहरे को भी बेनकाब किया है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page