पिछले दिनों राजस्थान के अलवर जिले में एक बालिका के साथ दुष्कर्म की घटना अखबार और मीडिया की सुर्खियां बनी । निश्चित रूप से ऐसी घटनाएं न केवल समाज को कलंकित करने वाली है बल्कि आज ऐसी घटनाएं समाज के लिए नासूर बनती जा रही है ।  समाज में महिलाओं और बालिकाओं की प्रति अपराध एक आम सी बात हो गई है आए दिन ऐसी घटनाएं जैसे परिवार में हिंसा, बलात्कार, छेड़खानी आदि अखबार और मीडिया की सुर्खियां बनती है । इस प्रकार के अपराधों की रोकथाम,अपराधियों को सजा दिलाने और महिलाओं में जागरूकता के लिए समय-समय पर सरकार द्वारा भी कानूनी प्रावधान किए जाते रहे हैं । उनके अधिकारों के संरक्षण के लिए उन्हें विशेष सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई है । ऐसे ही कुछ अधिकार और कुछ सुविधाओ की संक्षिप्त जानकारी इस आलेख के द्वारा उस आम और खास वर्ग तक पहुंचाने का प्रयास है । निश्चित रूप से यह उनके लिए उपयोगी साबित होगी।

  • डाक और ईमेल से भी FIR दर्ज कराई जा सकती है 

यदि कोई पीड़ित महिला किसी कारणवश पुलिस स्टेशन नहीं जा सकती तो हतोत्साहित होने की आवश्यकता नहीं है अब वह अपनी शिकायत किसी भी पंजीकृत डाक या ईमेल के माध्यम से भी दर्ज करा सकती है ,जो की पुलिस उपायुक्त या पुलिस आयुक्त के स्तर के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को संबोधित की गई हो। 

  • कहीं भी दर्ज कराई जा सकती है शिकायत 

एक बलात्कार पीड़ित महिला द्वारा जीरो FIR के तहत किसी भी पुलिस स्टेशन में अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं। वहीं किसी भी पुलिस स्टेशन द्वारा इस बहाने से FIR दर्ज करने से इनकार नहीं किया जा सकता है कि वह क्षेत्र उनके दायरे में नहीं आता है। 

  • महिलाओं को निशुल्क कानूनी सहायता का है अधिकार 

अक्सर कई बार देखा जाता है कि पीड़ित महिला जब भी अकेले किसी पुलिस स्टेशन में अपना बयान दर्ज कराने जाती है तो उसके बयान को तोड़ मरोड़ कर लिखे जाने का अंदेशा रहता है और कहीं ऐसे मामलों भी देखने को मिलते हैं जिनमें महिलाओं को अपमानित कर उनकी शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया जाता है । राज्य सरकार की जिम्मेदारी है कि वह महिला को निशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध करवाएं।

  • घटना की FIR दर्ज कराने में देरी होने पर क्या करें

महिलाओं और बालिकाओं के प्रति छेड़छाड़,बलात्कार की घटनाओ बारे में FIR दर्ज कराने और शिकायत दर्ज कराने में किसी कारणवश देरी हो जाती है तो ,समय बीत जाने के उपरांत भी पुलिस द्वारा FIR दर्ज करने से मना नहीं किया जा सकता । बलात्कार जैसी किसी घटना के बाद महिला की मानसिक मनोवृति होती है उसके कारण उसका सदमे में जाना स्वभाविक है और ऐसी परिस्थिति में उसके रिपोर्ट ना लिखवा पाना एक स्वाभाविक घटना हो सकती है या वह अपनी सुरक्षा और प्रतिष्ठा के लिए भी ऐसा कर सकती है । इसी बात का ध्यान रखते हुए उच्चतम न्यायालय द्वारा फैसला दिया गया था कि बलात्कार और छेड़छाड़ की घटनाएं होने और उनसे संबंधित शिकायत दर्ज करने के बीच काफी वक्त गुजर जाने के बाद भी एक महिला अपने खिलाफ यौन अपराध का मामला दर्ज करा सकती है। देरी को बहाना बनाकर FIR दर्ज करने से मना नहीं किया जा सकता।

  • टोल फ्री नंबर कि ली जा सकती है मदद

दिल्ली में हुए निर्भया प्रखंड के बाद महिलाओं की सुरक्षा और उनकी सहायता के लिए वुमन हेल्पलाइन नंबर पूरे भारत के लिए लागू है। सरकार द्वारा  जारी किए गए हैं हेल्पलाइन नंबर भारत के किसी भी स्थान से और किसी भी समय 1090 और 1091 टोल फ्री नंबर  पर कॉल किया जा सकता है। 

  • मोबाइल का पावर स्विच तीन बार दबाने से तत्काल पहुंचती है मदद 

मोबाइल पावर स्विच को तीन बार दबाने पर पीड़िता की लोकेशन पुलिस कंट्रोल रूम में पहुंच जाती है ।उसे तत्काल सहायता उपलब्ध करवाई जाती है। 
* राज महिला सुरक्षा मोबाइल ऐप

इसके अतिरिक्त राजस्थान महिला आयोग की पहल पर पुलिस विभाग व सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग जयपुर के सहयोग से महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ” राज महिला सुरक्षा मोबाइल ऐप ” 28 अक्टूबर 2016 को लांच किया जा चुका है । 
वर्तमान समय में यह पुलिस आयुक्तालय जयपुर की सीमाओं में कार्य कर रहा है और भविष्य में इसका कार्य क्षेत्र संपूर्ण राजस्थान की जाने की संभावना है । 
* महिलाओं के लिए ऑनलाइन पोर्टल 

★ विकल्प ऑनलाइन पोर्टल
यह भारत का पहला ऑनलाइन पोर्टल है जो कि उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा सन 2016 में शुरू किया गया था। 

★ नारी ऑनलाइन पोर्टल
यह ऑनलाइन पोर्टल महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा संचालित है ।यह ऑनलाइन पोर्टल भारत में चल रही महिलाओं से संबंधित योजनाओं की जानकारी उन तक पहुंचाने और उन्हें जागरूक करने का उपयोगी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है।  यह पोर्टल पूरे भारत में सन 2018 में लागू किया गया था।
इसके अतिरिक्त महिला सुरक्षा से संबंधित मोबाइल एप्प चिल्ला मोबाइल ऐप, स्मार्ट 24 * 7 है तथा दिल्ली पुलिस द्वारा महिला सुरक्षा के लिए मोबाइल एप लांच किया गया है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page