वर्ष 2022 के विदा होते-होते भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र दास दामोदर दास मोदी की माता हीराबेन मोदी के देवलोक गमन के दुखद समाचार मिले । ज्ञात हो कि अहमदाबाद के यू एन मेहता अस्पताल में 30 दिसंबर 2022 को प्रातः उनका  100 वर्ष की आयु में निधन हो गया । उनकी तबीयत खराब होने की वजह से पिछले कुछ दिनों से अस्पताल में भर्ती थी। अपनी माता के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर श्रद्धांजलि दी और कहां “शानदार शताब्दी का ईश्वर चरणों में विराम”लिखा।

गांधी नगर के सेक्टर 30 स्थित शमशान में उनका अंतिम संस्कार किया गया। 

पीएम मोदी मां से रहा विशेष लगाव

हर पुत्र का अपनी माता से भावात्मक रिश्ता जरूर होता है लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपनी माता श्रीमती हीराबेन मोदी से विशेष लगाव था। देश के प्रधानमंत्री होने और अपने कार्य में अत्यधिक व्यस्त होने के बावजूद भी समय-समय पर अपनी मां से मिलने गुजरात जाया करते थे । यह सारी खबरें मीडिया की सुर्खियां बनती थी क्योंकि अपनी माता से मुलाकात के वे पल हर किसी के आदर्श का संदेश देते थे । मुलाकात के दौरान जैसे उनको अपने हाथों से खाना खिलाना, उनके चरण धोकर उसके पानी को अपनी आंखों से लगाना , अपनी माता का आशीर्वाद लेना जैसे भावात्मक और मार्मिक दृश्य देखे जाते रहे हैं।

ऐसे दृश्य केवल भारतीय संस्कृति में ही देखने को मिल सकते हैं और यह संदेश देते हैं कि इंसान चाहे जितना बड़ा हो जाए उसकी जन्नत उसकी मां के चरणों में होती है। 

राष्ट्रों मातृ भूमि के प्रति समर्पण का उदाहरण

अपनी मां के साथ साथ अपनी मातृभूमि के प्रति भी अपना कर्तव्य निभाने और राष्ट्र के प्रति निष्ठा का इससे बड़ा उदाहरण क्या होगा की आपनी माता की अंतेष्टि के बाद तुरंत ही ऑनलाइन माध्यम से बंगाल के कार्यक्रम में जुड़  गए ऐसा काम केवल एक त्यागी और राष्ट्र के प्रति समर्पण वाला ही कर सकता है।

जीवन परिचय : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की माता श्रीमती हीराबेन मोदी जिनक पूरा नाम श्रीमती हीराबेन दामोदर दास मोदी है। इनका जन्म सन 1923 में हुआ था। इनके पति का नाम स्वर्गीय दामोदर दास मूलचंद मोदी है।

ध्यातव्य: हाल ही में हीराबेन दामोदरदास मोदी का 100 वा जन्मदिन मनाया गया था। 

श्रीमती हीराबेन मोदी के 5 पुत्र ( सोमा मोदी,अमृत मोदी,नरेंद्र मोदी, प्रह्लाद मोदी,पंकज मोदी और एक बेटी वासंती बेन हसमुख लाल मोदी है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page