सेवा में ,

श्रीमान माननीय मुख्यमंत्री महोदय [श्री अशोक गहलोत]        मुख्यमंत्री कार्यालय , राजस्थान सरकार,  जयपुर।

विषय :-

तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2012 वर्तमान SLP(c)No.013102 – 013109/2020 Diary no.20873/2020 के तहत डी०बी० स्पेशल रिट संख्या 908/2017 नमोनारायण शर्मा व अन्य बनाम सरकार ” में निर्णीत आदेश दिनांक 08/01/20 (अधिक प्राप्तांक प्रकरण) के वास्तविक रूप से हकदार करीब570याचिकार्थीयों हेतु संवेदनशील हो कर  नियुक्ति आदेश जारी करने बाबत।

माननीय महोदय,

उपर्युक्त विषयान्तर्गत माननीय मुख्यमंत्री महोदय राजस्थान सरकार की सेवा में प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत कर अग्रांकित बिंदुओं में अपील है ।


( 1) माननीय मुख्यमंत्री महोदय अपील है कि उक्त भर्ती तृतीय श्रेणी  प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय सीधी  प्रतियोगी परीक्षा 2012 ( लेवल 1 व लेवल 2 ) का आयोजन पंचायती राज विभाग द्वारा किया गया जिसमें समस्त जिला परिषदों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी गई थी । उक्त परीक्षा की समाप्ति पर अभ्यर्थियों को न तो प्रश्न-पत्र और ना ही उत्तर पत्रक (ओएमआर सीट) की कार्बन कॉपी उपलब्ध करवाई और परीक्षा का परिणाम 1 माह से भी कम समय में जारी कर दिया जो  लापरवाही  व अपारदर्शीता लिए रहा ।

(2) माननीय मुख्यमंत्री महोदय ,अपील  है कि उक्त भर्ती  तृतीय श्रेणी  प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय सीधी  भर्ति परीक्षा 2012 ( लेवल 1 व 2 ) का नवंबर 2016 में पुनः संशोधित परिणाम जारी कर सिंगल मेरिट सूची द्वारा नियुक्ति की प्रक्रिया को शुरू कर मनमर्जी व फर्जीवाड़ा करते हुए जल्दबाजी से नियुक्तियों  दी गई  जबकि विवादित प्रश्नों पर पुनः आपत्तियों को स्वीकार किया गया तो सर्वप्रथम आपत्तियों का निस्तारण करवाया जाकर परिणाम को पारदर्शी करना था तत्पश्चात नियमानुसार डेढ़ गुणा मेरिट बनाकर पात्र व योग्य अभ्यर्थियों  के द्वारा अंतिम चयन सूची तैयार की जानी चाहिए थी । यदि इस तरह की चयन प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जाता तो अधिक प्राप्तांक प्रकरण के तहत विवाद उत्पन्न ही नहीं होता , जो एस०बी० सिविल रिट पिटिशन संख्या 750 /2017 मुकेश कुमार टेलर व अन्य बनाम सरकार के रूप में देखने को मिलता है।

(3) माननीय मुख्यमंत्री महोदय अपील है कि उक्त भर्ती तृतीय श्रेणी  प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय सीधी  प्रतियोगी परीक्षा 2012 (लेवल 1 व  2 ) के नवंबर 2016 में जारी पुनः संशोधित परिणाम के कारण वरीयता से बाहर होने वाले 6235  शिक्षकों  के समायोजन हेतु एवं एस०बी० सिविल रिट पिटिशन संख्या 10622 तथा 750/2017 मुकेश कुमार टेलर व अन्य बनाम सरकार में पारित निर्णय की पालना में उपलब्ध रिक्त पदों को भरने हेतु कार्मिक विभाग के परिपत्र दिनांक 19/7/2001 में प्रदत्त प्रावधानों में शिथिलता देते हुए माननीय शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) तत्कालीन की अध्यक्षता में बुलाई गई बैठक के निर्णयानुसार संपूर्ण बैठक कार्यवाही का तथ्यात्मक विवरण विभागीय पत्रांक एफ 915 (7 ) पंराप्राशि / 2016 /919 जयपुर ,दिनांक 4/9/17 द्वारा प्रस्तुत किया  गया जिसमें माननीय शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) तत्कालीन के कथनानुसार शिक्षा विभाग में रिक्त 50,000  पदों पर वरीयता  से बाहर होने वाले शिक्षकों के साथ-साथ मुकेश कुमार टेलर प्रकरण के  अधिक प्राप्तांक अभ्यर्थियों की नियुक्ति के निर्णय की पालना में कार्मिक विभाग की सहमति से नियुक्ति देने का निर्णय लिया।उक्त संयुक्त निर्णय समग्र रूप से विचार विमर्श एवं चर्चा के बाद लिए गए । विभाग द्वारा निर्णय बिंदु संख्या ( 1 ) की पालना के अनुसार पूर्व में नियुक्त एवं कार्यरत कुल 6235 शिक्षक वरीयता से बाहर होने पर एस०बी० सिविल रिट संख्या 10622 /2014 रामधन कुमावत बनाम सरकार में पारित निर्णय 18.11.2014 की पालना करते हुए दोनों  निर्णय बिंदुओं में से बिंदु संख्या ( 1 ) की पालना तो शिक्षा विभाग के रिक्त पदों पर समायोजन की कार्यवाही कर स्थायीकरण की कार्यवाही पूर्ण  कर ली गई परंतु विभागीय अधिकारियों व जिला परिषद द्वारा निर्णय बिंदु संख्या (2) की पालना अभी तक नहीं की गई ।  
(4) माननीय मुख्यमंत्री महोदय अपील है कि उक्त भर्ती तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2012 के अधिक प्राप्तांक प्रकरण को मुकेश कुमार टेलर व अन्य बनाम सरकार में कवर्ड  करते हुए माननीय सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका संख्या 11047-11061/2018 (Arising out of SLP (C) 30287-30303/2018 डायरी नम्बर 12356/2018  के दिशा निर्देश पर माननीय उच्च न्यायालय जोधपुर की जयपुर खंडपीठ ने “डी०बी० स्पेशल रिट संख्या 908/2017 नमोनारायण शर्मा व अन्य बनाम सरकार ” याचिका पर मामले की सुनवाई करते हुए 08/01/2020 को अपना महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए 08 जनवरी 2020 तक किसी भी कारण से रिक्त पड़े हुए पदों पर अधिक प्राप्तांक अभ्यर्थियों को नियुक्ति देने का आदेश जारी किया है।उक्त आदेश से पहले ही जालोर के पत्रांक 4903 दिनांक16/11/18 ,प्रतापगढ़ के पत्रांक 1815 दिनांक13/11/18 व झालावाड़ सहित कुछ जिलों में नियुक्तियां दी जा चुकी है जिस फैसले के विरुद्ध हठधर्मिता अपनाते हुए  विभागीय पत्र 4371 दिनांक 24/2/20 में वर्णित कार्यवाही के निर्णय बिंदु(15)  के द्वारा एस.एल.पी. दायर करने का निर्णय भी भेदभाव व द्वेषपूर्ण नीति से ही लिया गया। जबकि उक्त निर्णय आने से दो दिन पूर्व दिनांक 6 जनवरी 2020 को माननीय मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक मीटिंग बुलाई गई जिसमें विचार विमर्श कर तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2012  के संदर्भ में माननीय न्यायालय द्वारा  निर्णीत प्रकरणों / लंबित न्यायिक प्रकरणों के सम्बंध में की जाने वाली कार्यवाही को छोड़कर अन्य समस्त मामलों के लिए उक्त दोनों भर्तियों  को बंद किये जाने का निर्णय सर्व सम्मति से लिया गया।

(5) माननीय मुख्यमंत्री महोदय , करबद्ध अपील है कि उक्त सम्पूर्ण प्रकरण पर गौर किया जाए तो वर्तमान SLP(c)No.013102 – 013109/2020 Diary no.20873/2020 के तहत  अधिक प्राप्तांक प्रकरण में पारित निर्णय नमोनारायण शर्मा 908 /2017 की भी समीक्षा की जाए तो वर्तमान समय में रिक्त करीब 5470 पदों पर नियुक्ति देनी पड़ सकती है। माननीय मुख्यमंत्री महोदय न तो हम वेटिंग लिस्ट जारी करवाने की मांग कर रहे हैं और न ही अंतिम समायोजित सेवारत शिक्षक से अधिक प्राप्तांक अभ्यर्थियों की ,जिनकी नियुक्ति से सरकार पर अनावश्यक रूप से वित्तीय भार पड़े , हम तो केवल SLP के तहत नमोनारायण शर्मा प्रकरण में न्यायालय के करीब 570 याचिकार्थीयों की नियुक्ति की मांग कर रहे हैं इससे सरकार पर ज्यादा वित्तीय भार भी नहीं पड़ेगा और विभागीय कथन “तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2012  के संदर्भ में माननीय न्यायालय द्वारा  निर्णीत प्रकरणों / लंबित न्यायिक प्रकरणों के सम्बंध में की जाने वाली कार्यवाही को छोड़कर अन्य समस्त मामलों के लिए उक्त दोनों भर्तियों  को बंद किये जाने का निर्णय सर्व सम्मति से लिया गया।” की भी पूर्ति हो जाएगी।       

आशा है माननीय मुख्यमंत्री महोदय हमारी अपील पर संवेदनशील होते हुए  तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2012 के तहत डी०बी० स्पेशल रिट संख्या 908/2017 नमोनारायण शर्मा व अन्य बनाम सरकार में निर्णीत आदेश दिनांक 08/01/20 (अधिक प्राप्तांक प्रकरण) की पालना  में  वास्तविक रूप से हकदार करीब 570 याचिकार्थीयों  ‘जिन्हें अब तक नियुक्ति से वंचित कर रखा था’ की नियुक्ति हेतु  आदेश जारी कर समस्त वंचित अभ्यर्थियों सहित उनके परिवार को अनुगृहीत करेंगे।                                                   

                                        भवदीय 
                              तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ति 2012                  908/2017 नमोनारायण शर्मा  बनाम स्टेट ऑफ राजस्थान

स्रोत:- ( जैसा कि श्याम चारण याचिकाकर्ता ने बताया)

By admin

One thought on “तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2012 ( TGT 2012) में अधिक प्राप्तांक नियुक्ति से वंचित संघर्षरत बेरोजगारों का मुख्यमंत्री के नाम एक पत्र ।”
  1. TGT 2012 अधिक अंक प्राप्त करने वाले याचिका कर्ताओ को नियुक्ति दो सरकार और अपने 2 बार किये वादे को निभाओ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page