देश के सबसे बड़े प्रान्त राजस्थान के युवा साथी जो सरकारी नौकरियों के सपने सजाए बैठे हैं और जो किसी न किसी प्रतियोगिता परीक्षा में शामिल होना चाहते है । उन सब को राजस्थान सरकार ने एक नायाब तहफा दिया है ।
 

राजस्थान सरकार भर्ती प्रक्रिया में एक बहुत ही बड़ा बदलाव लेकर आई है । अब सरकार अलग अलग भर्तियों के लिए अलग अलग फॉर्म भी नही भरवाया जाएगा और न ही अलग अलग परीक्षाएं आयोजित करवाएगी ।इन सब के लिये अब सरकार CET कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट/समान पात्रता परीक्षा करवाएगी ।

बजट 2021 में की थी इसकी घोषणा

 राजस्थान सरकार बजट 2021 में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा सभी प्रकार की प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिये अलग अलग परीक्षा की जगह समान परीक्षा प्रणाली/ CET(कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट)  लागू करने की घोषणा की थी। कार्मिक विभाग ने इस बाबत 23  जून 2021 को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा की गई घोषणा के तहत राजस्थान के कार्मिक विभाग ने सीईटी कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट के आदेश जारी कर दिए हैं।

अब तक यह थी प्रक्रिया 

जैसा कि आप सभी को विदित है कि राजस्थान में अब तक राजस्थान अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा में भर्ती संबंधी कार्य राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा किया जाता है। अधीनस्थ सेवाओं के कुछ पदों पर भर्ती राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा भी करवाई जाती रही है  और कभी-कभी नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा के पदों पर स्वयं के स्तर पर अथवा किसी अन्य भर्ती संस्थाओं के माध्यम से परीक्षाएं आयोजित करवाई जाती रही है । 

इन पदों पर भर्ती हेतु इच्छुक अभ्यर्थियों को अलग अलग संस्थाओं द्वारा आयोजित भर्ती में प्रत्येक पद के लिए अलग-अलग एवं कई बार आवेदन करना एवं परीक्षा मैं शामिल होना पड़ता था जो कि सरकार के कार्य भार को भी बढ़ाती थी और बेरोजगारों के लिए भी मुशीबतों का पिटारा लेकर आती थी ।

अब इन भर्तियों के लिये CET होगी

राजकीय सेवाओं में विभिन्न पदों की भर्तियों के लिए अभ्यर्थियों द्वारा बार-बार आवेदन करने एवं परीक्षा में शामिल होने ,आवेदन शुल्क एवं परीक्षा हेतु यात्रा में व्यय तथा भर्ती संस्थाओं द्वारा लाखों अभ्यर्थियों की अलग-अलग पद हेतु अलग-अलग परीक्षा आयोजन करने से होने वाले परेशानियों, समय,श्रम और व्यय कम करने के उद्देश्य से राजस्थान सरकार के द्वारा सभी अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक संस्थाओं के गैर तकनीकी पदों पर भर्ती के लिए एक समान पात्रता परीक्षा CET आयोजित करवाने का निर्णय लिया है।

क्या है ? CET कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट

अलग-अलग विभागों के द्वारा की जाने वाली भर्ती आवेदन मांगने और बार-बार आवेदन करने तथा परीक्षाएं देने के झंझट से बेरोजगारों को राहत देने और निजात देने  के लिए सभी गैर तकनीकि पदों के लिए समान पात्रता परीक्षा करवाने की पहल की है । इसी परीक्षा को CET / कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट कहा गया है।

कौन करवाएगा ? यह कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट

कार्मिक विभाग द्वारा जारी आदेशों के तहत यह कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा आयोजित  की जाएगी तथा बोर्ड द्वारा इस परीक्षा का आयोजन सामान्यतया वर्ष में एक बार किया जाएगा ।

कर्मचारी चयन बोर्ड में बनेगा एक अलग प्रकोष्ठ

 समान पात्रता परीक्षा के लिए नियमित आयोजन के मद्देनजर राजस्थान कर्मचारी बोर्ड में एक विशेष प्रकोष्ठ का गठन किए जाने का प्रावधान है । इस प्रकोष्ठ का प्रभारी राजस्थान प्रशासनिक सेवा का वरिष्ठ अधिकारी होगा, जो सीधे अध्यक्ष राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड को रिपोर्ट देगा । इस प्रकोष्ठ द्वारा एवं समान पात्रता परीक्षा का आयोजन किया जाएगा ।इस प्रकोष्ठ में विशेष रूप से तीन और उप अनुभाग (1 ) परीक्षा (2)अनुसंधान एवं प्रश्न सामग्री विकास (3) समन्वय स्थापित किए जाएंगे  ।

यह होंगे बदलाव, होगी नई पहल


राज्य सरकार के कार्मिक विभाग के द्वारा राज्य में समान पात्रता परीक्षा के प्रावधान को लागू करने के लिए 23 जून 2021 को जो निर्देश जारी किए हैं और क्या कुछ बदलाव होंगे? क्या प्रक्रिया होगी ? इसकी जानकारी कुछ इस प्रकार है जैसा कार्मिक विभाग के आदेश में है ।

गैर तकनीकी पदो के लिए होगी यह परीक्षा 


अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा के गैर तकनीकी पदों की भर्ती प्रक्रिया के अंतर्गत पात्र होने पर इस परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर भी किसी पद की भर्ती हेतु आयोजित की जाने वाली प्रतियोगिता परीक्षा में भाग लेने हेतु उसे पात्र माना जाएगा ।


स्नातक और उच्च माध्यमिक के लिये अलग अलग होगी परीक्षा


स्नातक एवं उच्च माध्यमिक शैक्षणिक योग्यता के आधार पर अनुसूची t , π में उल्लेखित पदों के लिए अलग-अलग समान पात्रता परीक्षा आयोजित की जाएगी।अलग अलग स्तर की पात्रता परीक्षा बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र पर आधारित होगी  ।

परीक्षा में बैठने की कोई आयु सीमा नही 


इस परीक्षा में बैठने हेतु अवसरों की कोई सीमा नहीं होगी साथ ही आयु संबंधी एवं अन्य पात्रता के आधार पर कोई भी अभ्यर्थी अपनी रेटिंग अंक सुधार हेतु कितनी ही बार समान पात्रता परीक्षा में भाग ले सकता है तथा जिस अवसर में अधिक अंक अर्जित करेगा उसे पात्रता हेतु गिना जाएगा।

आरक्षण के मापदंड रहेगे जारी


 समान पात्रता परीक्षा के लिए आयु एवं अन्य मापदंडों के संबंध में राज्य में प्रचलित आरक्षण प्रावधान लागू रहेंगे 

यह होगी परीक्षा के बाद की प्रक्रिया


कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा आयोजित समान पात्रता परीक्षा करवाने के पश्चात सभी अभ्यर्थियों के अंकों को सार्वजनिक किया जाएगा । इस परीक्षा हेतु न्यूनतम प्राप्तांक नहीं होंगे बल्कि किसी एक पद विशेष की भर्ती के समय इस परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर अभ्यर्थियों से आवेदन आमंत्रित किए जाएंगे ।

इतने वर्ष होगी अर्जित अंकों की वैधता अवधि 


समान पात्रता परीक्षा में अर्जित अंकों की वैधता अवधि 3 वर्ष होगी अर्थात किसी भी अभ्यर्थी द्वारा परीक्षा में एक बार अर्जित अंकों के आधार पर अन्यथा पात्र होने पर 3 वर्ष तक संबंधित पदों के लिए आवेदन हेतु पात्र माना जाएगा ।
समान पात्रता परीक्षा के लिए आयु एवं अन्य मापदंडों के संबंध में राज्य में प्रचलित आरक्षण प्रावधान लागू रहेंगे ।

वर्ष में एक बार होगी परीक्षा

 
समान पात्रता परीक्षा केवल एक पात्रता परीक्षा होगी। इस परीक्षा में अर्जित अंको को किसी भी पद के अंतिम चयन के लिए गणना में शामिल नहीं किया जाएगा अथार्थ केवल इस परीक्षा में शामिल होना अथवा उच्च अंक प्राप्त करने पर किसी भी अभ्यर्थी को किसी भी पद पर चयन के संबंध में कोई अधिकार नहीं मिलेगा ।

वन टाइम रजिस्ट्रेशन की होगी व्यवस्था

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा एक बारी पंजीयन/ वन टाइम रजिस्ट्रेशन की ऐसी व्यवस्था विकसित की जाएगी जिससे न केवल समान पात्रता परीक्षा बल्कि इस परीक्षा के आधार पर किसी भी पद पर भर्ती के लिए अभ्यर्थियों को बार बार आवेदन नहीं करने पड़े तथा एक बार यह पंजीकरण/ वन टाइम रजिस्ट्रेशन के आधार पर सृजित यूनिक पहचान संख्या के माध्यम से आवेदन संभव हो सके।


 एक बार यह पंजीकरण वन टाइम रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था के संबंध में राजस्थान लोक सेवा आयोग, राजस्थान कर्मचारी बोर्ड एवं सभी नियुक्त प्राधिकारियों  के मध्य तालमेल द्वारा इसे इस रूप में विकसित किया जाएगा कि किसी भी अभ्यर्थी द्वारा न केवल कर्मचारी चयन बोर्ड बल्कि राज्य में किसी भी भर्ती संस्था द्वारा किसी भी पद की भर्ती के लिए इसे काम भी लिया जा सके । जिससे कि भर्ती हेतु आवेदन एवं आवेदन पत्रों की प्रारंभिक शिक्षा का कार्य न्यूनतम हो सके।

ध्यातव्य


* संलग्न अनुसूचियों में वर्णित पदों की भर्ती में समान पात्रता परीक्षा / कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट का प्रावधान संबंधित सेवा नियमों में करने एवं उसके नियम बनाने का कार्य कार्य विभाग द्वारा किया जाएगा । इसके पश्चात ही समान पात्रता परीक्षा का आयोजन किया जाएगा ।


* ध्यान रहे समान पात्रता परीक्षा का प्रावधान पहले से विज्ञापित पदों पर लागू नहीं होंगे बल्कि पहले से प्रक्रियाधीन विज्ञप्ति सभी भर्तियों पूर्व निर्धारित प्रक्रिया और कार्यक्रम के अनुसार जारी रहेगी। इसके अतिरिक्त राजस्थान सरकार संबंधित राजकीय उपक्रमों समयसारणी संस्थाओं ,निगम, बोर्ड, बैंक आदि द्वारा भी अपने संस्थानों में कार्मिकों की नियुक्ति के समान पात्रता परीक्षा के अंकों का उपयोग किया जा सकेगा ।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page