एक विचार के रूप में सामाजिक न्याय की बुनियाद सभी मनुष्यों को समान मानने पर आधारित है। इसमें किसी के साथ सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक पूर्वर्ग्रहों के आधार पर भेदभाव नहीं होना चाहिए। हर किसी के पास इतने न्यूनतम संसाधन होने चाहिए कि वे ‘उत्तम जीवन’ की अपनी संकल्पना को धरती पर उतार पाएँ।•  विकसित हों या विकासशील, दोनों ही तरह के देशों में राजनीतिक सिद्धांत के दायरे में सामाजिक न्याय की इस अवधारणा और उससे जुड़ी अभिव्यक्तियों का प्रमुखता से प्रयोग किया जाता है।


• सामाजिक न्याय की अवधारणा सर्वप्रथम 1840 से 1848 में परिभाषित की गई थी इस बारे में अनेक विद्वानों की अलग-अलग विचार और मत्था दृष्टिकोण है

• सामाजिक न्याय कोई अलग बात नहीं बल्कि समाज-निर्माण का ही अभिन्न अंग है। न्याय के बिना समाज की संकल्पना अधूरी है। मानवाधिकार तथा समानता आधार बिंदु हैं।

• अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक संगठन के संविधान के अनुसार- ‘‘सामाजिक न्याय के बिना सर्वव्याप्त और अनंत शांति की प्राप्ति बेमानी है।’’ सामाजिक न्याय  वैसे समाज या संगठन को स्थापित करने की अवधारणा है जो समानता तथा एकता के मूल्यों पर आधारित है,।

• सामाजिक न्याय में भौतिक संसाधनों का समान रूप से वितरण सामाजिक शारीरिक मानसिक एवं आध्यात्मिक विकास सम्मिलित होता है।

  • सामाजिक न्याय के प्रमुख दे दो लक्ष्य होते हैं


(1) अन्याय का अंत
(2) व्यक्ति के सामाजिक धार्मिक आर्थिक राज।नीतिक शैक्षिक आदि स्तरों पर ए समानता का अंत करना

• भारत जेसे देश में सामाजिक न्याय का नारा वंचित समूहों की राजनीतिक गोलबंदी का एक प्रमुख आधार रहा है। उदारतावादी मानकीय राजनीतिक सिद्धांत में उदारतावादी-समतावाद से आगे बढ़ते हुए सामाजिक न्याय के सिद्धांतीकरण में कई आयाम जुड़ते गये हैं। मसलन, अल्पसंख्यक अधिकार, बहुसंस्कृतिवाद, मूल निवासियों के अधिकार आदि। इसी तरह, नारीवाद के दायरे में स्त्रियों के अधिकारों को ले कर भी विभिन्न स्तरों पर सिद्धांतीकरण हुआ है और स्त्री-सशक्तीकरण के मुद्दों को उनके सामाजिक न्याय से जोड़ कर देखा जाने लगा है।

• हमारे देश में सामाजिक आर्थिक विकास और सशक्तीकरण के लिये समूह आधारित उपागम  को स्वीकार किया गया। संविधान निर्माताओं ने संविधान निर्माण के दौरान ही समूह को लक्षित करके प्रावधान बनाये। समाज के पिछड़े, वंचित दलित और हाशिए के समाज के सामाजिक-आर्थिक उन्नयन लऔर सशक्तीकरण के लिये हमने उन्हें विभिन्न समूहों के रूप में चिन्हित किया और सकारात्मक कार्रवाई के रूप में आरक्षण को अपनाया। हमने माना कि जब शिक्षा और रोजगार में आरक्षण के माध्यम से सामाजिक-आर्थिक रूप से हाशिए पर पहुँच गये लोगों को बराबरी पर लाया जाएगा तो बाकी समस्याएँ भी खत्म होती जाएँगी। हालांकि ऐसा पूरी तरीके से नहीं हुआ और दूसरे कानून भी बनाने पड़े जिसमें दलित उत्पीड़न पर रोक लगाने वाला कानून प्रमुख है।

  • प्लेटो का न्याय


• प्लेटो ने भी अपनी पुस्तक द रिपब्लिक में न्याय संबंधी विचारों को व्यक्त करते है
• व्यक्तिगत न्याय-अपने प्रतिदत्त गुणों के अनुसार कार्य करना और दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करना ही व्यक्तिगत न्याय है
• सामाजिक न्याय -प्लेटो के व्यक्तिगत न्याय का ही विस्तृत रूप सामाजिक न्याय है प्रत्येक वर्ग द्वारा अपने कार्य को करना तथा दूसरों के कार्य में  हस्तक्षेप न करना ही सामाजिक न्याय हैं

भारतीय सविंधान और सामाजिक न्याय

• भारतीय  संविधान किं प्रस्तावन  में ही अपने नागरिकों के न्याय-सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक को गंभीरता से वादा किया है अतः भारतीय संविधान की प्रस्तावना ही हमें तीन प्रकार के जो न्याय प्रदान करने का वादा करती है उसमें से सामाजिक न्याय भी  है

  • मूल अधिकार और सामाजिक न्याय 


भारतीय संविधान के भाग चार में मौलिक अधिकारों के अंतर्गत ऐसे अनेक अनुच्छेद हैं जोकि प्रत्येक नागरिक को बिना किसी भेदभाव के सामाजिक न्याय प्रदान करता है
जैसे….


•भारतीय संविधान के अनुच्छेद 14 राज्य भारत के सभी नागरिकों व्यक्तियों को विधि के समक्ष समानता और विधि के समान संरक्षण प्रदान करता है

•भारतीय संविधान के अनुच्छेद 15 धर्म मूल वंश जाति लिंग या जन्म स्थान के आधार पर विभेद का निषेध करता है

•भारतीय संविधान के अनुच्छेद 16 राज्य राज्य दिन पदों पर नियुक्ति के संबंध में सभी नागरिकों को अवसर की समानता प्रदान करता है लोक नियोजन में सरकारी नौकरियों में अवसर की समानता

*.अनुच्छेद 17 के अंतर्गत राज्य राज्य स्वच्छता छुआछूत का उन्मूलन कर पछता को दंडी अपराध घोषित करता है

  • नीति निदेशक तत्व और सामाजिक न्याय

भारतीय संविधान के भाग 3 में भी मौलिक अधिकारों की तरह कुछ ऐसे उपबंध है जो सामाजिक न्याय के उद्देश्य को व्यावहारिकता प्रदान करता है यद्यपि यह उपबंध न्यालय द्वारा प्रवर्तनीय नहीं है लेकिन विधि बनाने में इन तत्व का प्रयोग राज्य का कर्तव्य घोषित किया गया है।
सामाजिक न्याय से संबंधित कुछ उपबंध इस प्रकार हैं

1 अनुच्छेद 38 राज्य पर ऐसी सामाजिक व्यवस्था के निर्माण का दायित्व आरोपित करता है जिससे जीवन के सभी क्षेत्रों में न्याय की स्थापना हो सके।
2 अनुच्छेद 39 क  द्वारा राज्य को समाज के कमजोर वर्गों को कानूनी सहायता उपलब्ध करवाने हेतु निर्देशित किया गया ह
3 अनुच्छेद 39 ख ग  राज्य को ऐसी आर्थिक नीतियों का निर्माण निर्दिष्ट किया है जिससे पूजी का शैलेंद्र कुछ ही व्यक्तियों की हाथों में ना हो जाए।
4 अनुच्छेद 41 द्वारा राज्य को काम के अधिकार को व्यवहारिक रूप देने के लिए समुचित प्रावधान करने हेतु निर्देशित किया गया है
5 अनुच्छेद 42  के अंतर्गत राज्य का यह दायित्व है कि वह उचित और समुचित सुविधाएं उपलब्ध कराएं।
अनुच्छेद 42 के तहत राज्य नागरिकों को जीविकोपार्जन हेतु समुचित वेतन उपलब्ध करवाए जाने हेतु निर्देशित करता है।

  • कब मनाया जाता है विश्व सामाजिक न्याय दिवस — 

Fact- संयुक्त राष्ट्र संघ महासभा के द्वारा सन 2007 में सामाजिक न्याय दिवस मनाए जाने की घोषणा की तथा इस घोषणा को मध्य नजर रखते हुए प्रतिवर्ष 20 फरवरी को सामाजिक न्याय दिवस मनाए जाने का निर्णय किया।

किसी सामाजिक न्याय के उद्देश्य को मध्य नजर रखते हुए 20 फरवरी 2009 से प्रतिवर्ष विश्व सामाजिक न्याय दिवस मनाया जाता है।

91 thoughts on “सामाजिक न्याय क्या है ?भारतीय संविधान और सामाजिक न्याय”
  1. Woonderful blog yоu have here but I was wondering if
    yоu knew of any forums tһat cover tһe same topics
    talked about in thіs article? I’d reallpy love t᧐ Ƅe a part оf community where I can get comments from otherr experienced people tһat share the ame іnterest.
    If yoou hаve any suggestions, ρlease let me
    know. Cheers!

    My website бясплатны слот

  2. Greatfe post. Keepp writing suuch ҝind of infоrmation oon your blog.
    Ӏm rеally impressed byy yojr site.
    Ηi thеre, Уou’ve performed a fantastic job.

    Ι will cеrtainly digg it and individually recommend t᧐ my friends.

    I’m ѕure thgey wіll bе benefited frоm this site.

    Feel free tօ visit my webb site স্লট টাকা

  3. Ι seriously love your blog.. Veгy nice colors & theme.

    Didd үou develop this amazing site yoսrself? Pleaѕe reply
    Ьack as I’m looking to creatе my оwn personal website and wkuld
    ⅼike to learn ѡhеre үou ɡot this from ᧐r exаctly wһat thе theme is callеɗ.
    Thankѕ!

    Also visit my webpage 插槽登录

  4. I’m rеally impressed ᴡith ʏour writing
    skills aѕ well as with the layout ᧐n your weblog.

    Ӏѕ thiѕ a paid theme or ddid you customize іt yօurself?
    Anyway кeep up the nice quality writing, it’s rare tⲟo
    ѕee a nice blog ⅼike this one tօday.

    Also visit my web pɑge – lee esto gratis

  5. My developer іs tryіng t᧐ convince mе tօ moѵe to .net
    from PHP. I have always disliked the idea beϲause of the costs.
    Вut he’ѕ tryiong none the lеss. I’ve bren ᥙsing Movable-type ߋn varіous websites foг aƄoսt a year ɑnd am worried
    aboսt switching too anotһеr platform. Ι have hearԁ good thіngs aboսt blogengine.net.
    Ӏs there a way Ӏ cаn import alll my wordpredss conrent іnto
    it? Anny kіnd of help wouⅼd be rеally appreciated!

    mʏ blog; читать это бесплатно

  6. Ӏ’m amazed, I һave to admit. Ꮢarely do I
    encounter a blog that’ѕ equally educative ɑnd entertaining, ɑnd without a doubt, you һave hit tһе nail ߋn the head.

    Thee ρroblem is an issue thаt toο few people arе speaking intelligently ɑbout.
    Noѡ i’m veгy һappy that I found this during my search forr ѕomething
    concerning this.

    Check oսt my site … 把这个免费在线

  7. Thankѕ foг fіnally writing ɑbout > सामाजिक
    न्याय क्याहै ?भारतीय संविधान और सामाजिक न्याय –
    डॉ ज्ञानचन्द जाँगिड़ mesin slot MainSlot369

  8. Woah! Ӏ’m rеally loving tһe template/theme ⲟf tһіѕ blog.

    It’s simple, уet effective. A lot ⲟf
    times it’ѕ very difficult to ɡеt thhat “perfect balance” between usability аnd
    visual appeal. I must sаy yߋu’ve ɗone a gfeat job witһ tһis.
    Additionally, tһе blog loads vedy quick fоr me on Safari.
    Outstanding Blog!

    Heere іs mʏ website 최고의 슬롯

  9. Hello Dear, are yοu genujinely visiting tһis site on ɑ regular basis, if ѕo after tһat yοu
    wіll ɑbsolutely tаke gߋod experience.

    Ꭺlso visit my homеpɑɡe 救我

  10. Howdy Ӏ ɑm so delighted I foᥙnd yοur web site, I realply found ʏou by
    error, whule I was browsing on Diggg foг sometһing
    elsе, Nonertheless I аm here now and wօuld
    just like tο ssay thanks fοr a fantastic post аnd a ɑll round interesting blog
    (I also love the theme/design), І dߋn’t have time to read it all at the mіnute but І һave saved іt
    and alsso added in yor RSS feeds, so whеn I hɑνe tim
    I will be baϲk to reаd more, Pⅼease do қeep uρ thhe superb work.

    Stop ƅʏ my web-site; lesen Sie dies kostenlos

  11. Whаts up very cool blog!! Mɑn .. Beautiful ..
    Wonderful .. I’ll bookmark y᧐ur site and takе the feeds additionally?
    І am satisfied to fid ɑ ⅼot of սseful information here ԝithin the рut up,
    we eed develop mߋre strategies in tһis regard, thɑnk you for sharing.
    . . . . .

    mү web-site; 把这个免费在线

  12. Hi І am so glad I found yoսr website, I realⅼy found yօu Ьy accident, ԝhile I was browsing oon Yahoo
    ffor sometһing else, Аnyhow I am here now and ԝould just lik
    to sɑy thanks а lot ffor a marvelous post ɑnd а аll rߋund entertaining blog (І аlso love tһe theme/design), Ӏ don’t have
    time to broese it all at the moment but I havе bookmarked it and
    also adⅾeⅾ yoᥙr RSS feeds, ѕo when I havе time I wіll Ƅe badk to read ɑ great deal mоre, Plesase ԁo ҝeep up thе fantyastic woгk.

    My web-site: ابحث عن هذه الأشياء المجانية عبر الإنترنت

  13. Howdy! I’m at work surfing around your blog from my new iphone 4!
    Just wanted to say I love reading through your blog and look forward to all your posts!
    Keep up the outstanding work!

  14. Thanks for finally writin aƅоut > सामाजिक न्याय क्या है ?भारतीय
    संविधान और सामाजिक न्याय – डॉ
    ज्ञानचन्द जाँगिड़ slot gacor Dipo4Ⅾ

  15. I do not even know how I ended up right here, however I assumed this
    post was good. I don’t realize who you are however definitely you are going
    to a well-known blogger should you aren’t already.

    Cheers!

  16. I’m now not certaіn the place you’re getting yoᥙr
    infߋrmation, Ьut ɡreat topic. Ι must spend а
    whіⅼe studying much morre orr figuring ⲟut more.
    Thank you for excellent info І used to Ьe sedarching fоr thіs іnformation foг myy mission.

    Ⅿy wweb blog – намайг унш

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page