लॉक डाउन के बाद की चुनोतियाँ और रणनीति

   किसी शायर ने क्या खूब कहा है–दर्द का हर लम्हा वक्त के साथ गुजर जाता है,बे-दर्द लम्हा वक्त के साथ निशान छोड़ जाता है जीवन में कुछ घटनाएं कुछ…

लॉक डाउन:कैसे हुआ न्यायिक कार्यो का नवाचार”

कोई भी शासन हो, कोई भो देश और प्रान्त हो, न्याय और न्याय के मंदिर न्यायपालिका का अपना महत्व रहा है  । न्यायपालिका की कार्यप्रणाली और उसकी स्वतंत्रता के आधार…

सोशल मीडिया:बच्चों में टिक-टोक का क्रेज

                     सोशल  मीडिया बच्चों में टिक-टोक का क्रेज    आज सोशल मीडिया मानो  व्यक्ति  के जीवन का एक अनिवार्य  हिस्सा बन चुका है।  क्या…

लॉक डाउन:मृत्यु भोज पर रोक एक बदलाव की शुरुआत,रोक रहे जारी

एक तरफ रोते बिलखते परिवार जन और वहीं दूसरी तरफ तरह-तरह के व्यंजन परोसे जाने का वह दृश्य आखिर क्या कुछ बयां नहीं करता, संस्कार ,प्रथा, धर्म, ओर परम्पराओ के…

लॉक डाउन में लोगों को वो सब वापस मिला जिससे वे दूर हो गये थे

अपने तो अपने होते है “  लॉक डाउन ने समाज को देश को लॉक भी कर दिया और कुछ क्षेत्रों में डाउन भी कर दिया  बहुत समस्यायें भी हुई  जिनको…

हिंदी भाषा पत्रकारिता के जनक थे प.जुगल किशोर शुक्ल

 मशहूर शायर  अकबर इलाहाबादी ने पत्रकारिता के परिपेक्ष्य में क्या खूब कहा …..” खींचो न  कमानो को न तलवार निकालो जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो  ”    अकबर इलाहाबादी की ये…

केकड़ी जिले के इस गांव में है “राजा भर्तृहरि की गुफ़ा”

  “वीरो ओर पीरो की खान”  राजस्थान राज्य के अजमेर जिले  के अंतिम छोर पर बसा आज का बघेरा कस्बा  न केवल अपने विश्व प्रसिद्ध शूर वराह मंदिर ओर प्रेम…

व्याघ्रपदपुर से बघेरा तक की यात्रा का पूरा इतिहास

हमारे गौरव ,शौर्य और स्वामीभक्ति की अमर कथाओ की  पर्याय हमारी धरा अपने आंचल में अनेक सभ्यताओं संस्कृतियों और इतिहास को  समेटे हुए हैं यह समय की गति ही कही…

विश्व पर्यावरण दिवस:लॉक डाउन ने बदल दिया पर्यावरण

किसी ने क्या खूब कहा है- ” होगा पर्यावरण विशुद्ध तभी इंसान तंदुरस्त होगा ” कहने का तात्पर्य और भावार्थ स्पष्ट है की हमारे चारों तरफ के वातावरण और पर्यावरण की…

You cannot copy content of this page